How to Do Kapalbhati, Steps & 20 Benefits of Kapalbhati Yoga

 कपालभाती हिंदी में पढ़े 👈

Kapalbhati

                                        Hi, Namaste🙏 and Welcome back to our Health Website. In this article, We will teach and show you - 
            How to do Kapalbhati Properly, Kapalbhati Steps and Benefits of Kapalbhati with Guided Meditation (watch video at end / read).

Kapalabhati
How to Do Kapalbhati

            First we will learn and practice Kapalbhati Detoxifying Exercise together and then we will do Meditation. 


    
        Before we learn How to do Kapalbhati properly, let's get to know the  the Benefits of Kapalbhati and the Precaution of Kapalbhati Detoxifying Exercise. 

            So that, you will feel Good and Decide to do OR not to do. 

Benefits of Kapalbhati

  1. KapalBhati helps to lose Weight and Fat. 
  2. It improves Memory and Mental Agility.
  3. KapalBhati Boost Immunity by regulating Blood Circulation.
  4. It also Improves Digestion. 
  5. It Increases ability to Focus and Concentration.
  6. It promotes Blood Circulations.
  7. KapalBhati Enhances the Beauty and Slow down the Ageing process.
  8. It cleans internal organs.
  9. KapalBhati helps strengthening Abdominal Muscles.
  10. It Stimulates Respiratory center in the frontal Brain.
  11. It purifies the frontal Air Sinuses. 
  12. KapalBhati Reduce the Stress. 
  13. It helps to prevent Menstrual cramps and PCOS.
  14. KapalBhati Increases Fertility in both sexes - in Men and Women.
  15. It is useful in treating Cold, Asthma, Rhinitis, Sinusitis, Bronchial infection. 
  16. Helps to overcome cough disorder. 

Benefits of Kapalbhati Pranayam
Benefits of Kapalbhati


To avoid Kapalbhati Side Effects, Precaution is very important thing. Who should not practice KapalBhati?  

Precautions of Kapalbhati

  • If you have Heart Problem or, 
  • If you suffering from High Blood Pressure, Hyper tension, Epilepsy. Skip the practice of KapalBhati.
  • If you have Slip disc or
  • If you just had an Abdominal Surgery.
  • If you are Pregnant or Menstruating.

            Just skip this Breathing detoxifying exercise and remaining practice you can do without any problem.

Kapalbhati ke Side Effects
Kapalbhati Side Effects

            Alright then, let's get started. You already know these Guidelines, if you are practicing from the 1st session from last year with me. 

            Make sure, your mobile phones are in Silent mode or Switched off. If you are reading / watching on mobile, then use service like D-N-D. Do Not Disturb. 

            If you wear glasses or contact lens while doing the Yoga or Meditation, Please remove them and keep them aside. One more, last advice from me to you by my own experience 

Do Not practice Kapalbhati Breathing Exercise with full Stomach or immediately after a Meal. 




Let's do it together. 

Kapalbhati and Guided Meditation with us.

Like the last time, we practice Guided Meditation together. 

Are You Ready? 

Hmmm? 

How to do Kapalbhati         

  1. First, find a place where you will be Undisturbed for period of Time.
  2. Second, find a Comfortable Seat, if you are Outdoor.
    Kapalbhati Yoga Outdoor Meditation
    Kapalbhati Yoga

  3. If you are Indoor, you can sit on the floor - cushion or chair where you can feel comfortable.
    I prefer on the floor with cushion or Yoga Mat. 
  4. Now, take couple of Deep Breath and Calm your Mind. Relax your whole body.
  5. Sit comfortably with cross legged posture aka Indian posture - Sukhasana, as shown in 1st session. Or Siddhasana as shown in 2nd session.
  6. So today's, our Meditation posture or Asan is - Padmasan - A Lotus Pose
    Lotus Position Padmasana Lotus Pose How to do & Benefits Yoga Meditation Poses.
    Lotus Pose

  7. You can sit in any posture you like. The important thing is your posture must be Comfortable, otherwise your whole focus will be on your leg and back, because of discomfort and pain.
  8. Make sure your Spine or Backbone is "Comfortably" erect. Hands uncrossed and Palms open.
  9. We will hold "Gyan Mudra", which is the Yoga Mudra for Meditation.
          To make Gyan mudra, join the tip of your thumb and index finger to form a perfect circle with that of thumbs and fingers.  Keep other three fingers straight.
  10. Hold this mudra and place the hands on your knee with palm facing upward.
          You can hold, any hand mudra. Gyan Mudra is preferred, not mandatory.
          It's all because, the Benefits of Gyan Mudra is preferred. 
  11. If you are unable, to hold any hand mudra because of some reason, like injury, or, if you feel more comfortable by not taking any hand mudra. 
          Then, you can just rest the palm facing downward on your knees. Like, her.

    Kapalbhati Pranayama Kaise Kare Yoga
    Kapalbhati Pranayama

         No specific hand mudra, just keeping hands in comfortably relaxed position on the knees. 
  12. Make sure, your Hands and Shoulder Must be loose and relax.
  13. Now, Slowly - Very Slowly Start Deep Breathing.

Kapalbhati Steps

  1.             So, to do Kapalbhati properly, your Focus should be on exhale. In Kapalbhati, we rapidly exhale from stomach or lower abdomen. And remove all the air from abdomen by pulling stomach inwardly. 

    How to do Kapalbhati Steps
    Kapalbhati Steps


  2.             In Kapalbhati, 'Active Exhalation' done and 'Passive inhalation'. Breath out Rapidly by pulling stomach inwardly, and breath-in Naturally. 
  3.             While doing Kapalbhati your focus must be on exhale from your Belly Button, Navel, or Lower Abdomen. There's a chakra, or center of Energy, situated in Belly button below, Navel area or, lower abdomen called, "Sacral Chakra".
    The real name of this chakra is " Svadhistana "
  4.             If you are beginner and never done Kapalbhati before, then for the beginners 5 to 7 rapid exhale is enough in one round set. Keep in mind 1 rapid exhale per second.
  5.             And if you are already practicing Kapalbhati as a regular routine exercise then you can do 10 rapid exhalation. But a little bit faster like 2 rapid exhale per second.


            So you understand now, how to do Kapalbhati properly? We are going to do 3 rounds sets of Kapalbhati in below video. 

Let's do it together, then. 


            Now, tell us. How was your Experience of Kapalbhati with Us? How did you feel? Tell me in the comment of the Video, 💓Love to Hear it from you. 

Don't forget to, Like the video and  SUBSCRIBE  to our channel because it's free. And press that bell icon, so that you will be notified about next video, OK? 

            More videos to come on Yoga, Meditation, Spirituality, and Health. Keep watching and Keep practicing Kapalbhati everyday, OK?

Namaste!🙏

Kapalbhati in Hindi

कपालभाती

आपका फिर से स्वागत है, हमारी स्वास्थ्य वेबसाइट पर। इस लेख में, हम आपको सिखाएंगे और दिखाएंगे -

            कपालभाति कैसे करें, या कपालभाती कैसे करते हे और कपालभाति के फायदे ध्यान के साथ। 

           इससे पहले कि हम कपालभाती को सही तरीके से करना सीखें, आइए कपालभाति के फायदे और कपालभाती की सावधानियां जान लें।

             ताकि, आप अच्छा महसूस करें और करने या न करने का निर्णय लें।




कपालभाती के फायदे 

  1. कपालभाती वजन और चर्बी कम करने में मदद करती है।
  2. यह याददाश्त और मानसिक चपलता में सुधार करता है।
  3. कपालभाति रक्त संचार को नियंत्रित करके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।
  4. यह पाचन में भी सुधार करता है।
  5. यह फोकस और एकाग्रता की क्षमता को बढ़ाता है।
  6. यह रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देता है।
  7. कपालभाती सुंदरता को बढ़ाता है और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है।
  8. यह आंतरिक अंगों को साफ करता है।
  9. कपालभाति पेट की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करती है।
  10. यह ललाट मस्तिष्क में श्वसन केंद्र को उत्तेजित करता है।
  11. यह ललाट वायु साइनस को शुद्ध करता है।
  12. कपालभाति तनाव कम करें।
  13. यह मासिक धर्म में ऐंठन और पी.सी.ओ.एस (PCOS)को रोकने में मदद करता है।
  14. कपालभाति पुरुषों और महिलाओं दोनों लिंगों में प्रजनन क्षमता बढ़ाती है।
  15. यह सर्दी, अस्थमा, राइनाइटिस, साइनसाइटिस, ब्रोन्कियल संक्रमण के इलाज में उपयोगी है।
  16. कपालभाती खांसी विकार को दूर करने में मदद करता है।


अब बहुत जरूरी बात। कपालभाति का अभ्यास किसे नहीं करना चाहिए?

कपालभाती की सावधानियां

  • अगर आपको दिल की समस्या है या,
  • यदि आप उच्च रक्तचाप, हाइपर टेंशन, या एपिलेप्सी / मिर्गी से पीड़ित हैं, तो  कपालभाति का अभ्यास ना करे।
  • अगर आप स्लिप डिस्क से पीड़ित है, या
  • अगर आपकी अभी-अभी पेट की सर्जरी हुई है।
  • यदि आप गर्भवती हैं या मासिक धर्म हैं।
  • तो इस ब्रीदिंग डिटॉक्सीफाइंग एक्सरसाइज को ना करे और बाकी अभ्यास आप बिना किसी समस्या के कर सकते हैं।


            तो चलिए, सीखते हे - कपालभाति प्राणायाम कैसे करे।  कपालभाति करने का तरीका। कपालभाति योगा कैसे करे। 


कुछ महत्वपूर्ण दिशा निर्देश फॉर - कपालभाती कैसे करते हे?

             सुनिश्चित करें कि आपके मोबाइल फोन साइलेंट मोड में हैं या स्विच ऑफ हैं। अगर आप मोबाइल पर पढ़ रहे/देख रहे हैं तो डी-एन-डी (Do-Not-Disturb)जैसी सर्विस का इस्तेमाल करें।

             यदि आप योग या ध्यान करते समय चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो कृपया उन्हें हटा दें और उन्हें एक तरफ रख दें। एक और, मेरे अपने अनुभव से आपको मेरी ओर से आखिरी सलाह -

भरे  पेट के साथ या भोजन के तुरंत बाद कपालभाती श्वास व्यायाम का अभ्यास न करें।

तो चलिए हम  साथ मिलकर करतें हैं कपालभाति और ध्यान।

पिछली बार की तरह, हम एक साथ ध्यान का अभ्यास करेंगे।

क्या आप तैयार हैं?

कपालभाती कैसे करे 

  • सबसे पहले, एक ऐसी जगह खोजें जहाँ आप कुछ समय के लिए शांतिसे बैठ सकेंगे, बिना किसी Disturbance के ।
  • दूसरा, अगर आप बाहर Outdoor प्रकृति निसर्ग में हैं, तो एक आरामदायक सीट खोजें।
  • यदि आप घर या Yoga Center में हैं, तो आप फर्श, कुशन या कुर्सी पर बैठ सकते हैं।  जहाँ आप सहज महसूस कर सकें। मैं फर्श पर कुशन या योगा मैट पे बैठना पसंद करती हूं।
  • अब, कुछ गहरी सांस लें और अपने दिमाग को शांत करें। अपने पूरे शरीर को आराम दें।
  • अब आप ​​भारतीय आसन - सुखासन में आराम से बैठें, या सिद्धासन जैसा कि दूसरे सत्र में दिखाया गया है।
  • तो आज का हमारा ध्यान आसन है - पद्मासन - एक कमल मुद्रा।
    आप अपनी पसंद की किसी भी मुद्रा में बैठ सकते हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि आपका आसन आरामदायक होना चाहिए,
    अन्यथा बेचैनी और दर्द के कारण आपका पूरा ध्यान आपके पैर और पीठ पर होगा।
  • सुनिश्चित करें कि आपकी रीढ़ की हड्डी "आराम से" सीधी हो। हाथ और हथेलियाँ खुली हो।
  • हम "ज्ञान मुद्रा" धारण करेंगे, जो ध्यान के लिए योग मुद्रा है।
  • ज्ञान मुद्रा बनाने के लिए, अपने अंगूठे और तर्जनी की नोक को अंगूठे और उंगलियों के साथ एक पूर्ण चक्र बनाने के लिए मिलाएं। अन्य तीन अंगुलियों को सीधा रखें।
  • इस मुद्रा को धारण करें और हथेलियों को ऊपर की ओर रखते हुए हाथों को घुटने पर रखें।
    आप किसी भी मुद्रा को धारण कर सकते हैं। ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है, अनिवार्य नहीं।
    यह सब इसलिए है क्योंकि ज्ञान मुद्रा के लाभों को प्राथमिकता दी जाती है।
                अगर आप ज्ञान मुद्रा धारण करने में असमर्थ हैं किसी कारण से जैसे चोट या यदि आप कोई हाथ मुद्रा न ले कर अधिक सहज महसूस करते हैं,
    तो फिर आप अपनी हथेली को नीचे की ओर अपने घुटनों पर रख सकते हैं। इसकी तरह।
  • सुनिश्चित करें कि आपके हाथ और कंधे ढीले हों और आराम की स्तिथि मे हो।
  • अब, धीरे-धीरे - बहुत धीरे-धीरे गहरी सांस लेना शुरू करें।
  • कपालभाति को ठीक से करने के लिए आपका फोकस सांस छोड़ने पर होना चाहिए। कपालभाति में हम पेट या पेट के निचले हिस्से से तेजी से सांस छोड़ते हैं। और पेट को अंदर की तरफ खींचकर पेट से सारी हवा को निकाल देते हैं। 
  • कपालभाति में, Active साँस छोड़ना और Passive साँस लेना होता हे। पेट को अंदर की ओर खींचकर तेजी से सांस छोड़ें, और स्वाभाविक रूप से सांस अंदर लें।
  • कपालभाति करते समय आपका ध्यान अपने बेली बटन, नाभि या पेट के निचले हिस्से से साँस छोड़ने पर होना चाहिए। यहाँ पे एक चक्र, या ऊर्जा का केंद्र नाभि क्षेत्र के नीचे या पेट के निचले हिस्से में स्थित होता है, जिसे "सेक्रल चक्र" कहा जाता है।
    इस चक्र का वास्तविक नाम " स्वाधिस्ठान " है।
  •             यदि आप शुरुआती हैं और पहले कभी कपालभाति नहीं की है तो शुरुआती लोगों के लिए एक राउंड सेट में 5 से 7 तेजी से साँस छोड़ना पर्याप्त है। ध्यान रखें कि प्रति सेकंड 1 तेजी से सांस छोड़ें।
  •             और अगर आप पहले से ही नियमित व्यायाम के रूप में कपालभाति का अभ्यास कर रहे हैं तो आप 10 तेजी से साँस छोड़ना कर सकते हैं। लेकिन थोड़ा तेज, जैसे प्रति सेकंड 2 तेजी से साँस छोड़ना।

            तो अब आप समझ गए हैं कि कपालभाति को सही तरीके से कैसे करें? हम इस वीडियो में कपालभाति के 3 राउंड सेट करने जा रहे हैं।

            तो, चलो इसे एक साथ करते हैं।